वर्चुअल रियलिटी क्या है?

(आखिरी बार इस तारीख को अपडेट किया गया: August 14, 2017)

Read this post in ENGLISH
नमस्ते दोस्तो, शायद आपने वर्चुअल रियलिटी का नाम तो सुना ही होगा. अगर नहीं भी सुना तो आज मैं आपको इसके बारे में आसान शब्दों में बताने जा रही हूँ. तो चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं कि आखिर वर्चुअल रियलिटी है क्या?

वर्चुअल रियलिटी एक ऐसी अवस्था है जिसमें हम एक ऐसे माहौल में चले जाते हैं जो हमें तो लगता है असली है पर वो असली नहीं होता. हमारे आस-पास एक नकली माहौल बन जाता है जिसका हम अनुभव ले पाते हैं. तो क्या ये नकली माहौल अपने आप बन जाता है? बिल्कुल नहीं!! इसके लिए भी तो कुछ चाहिए ही होगा. तो मैं आपको बता दूँ कि इसके लिए आपको एक हेडसेट की जरूरत होती है. इस हेडसेट में एक फोन लग जाता है. जब आप इस फोन में एक 360° की विडियो देखते हैं या कोई फिल्म चलाते हैं तो आपको ऐसा लगने लगता है जैसे आप उस माहौल में ही चले गए हों. जैसे-जैसे आप अपने सिर को दाएँ-बाएँ और ऊपर-नीचे हिलाते हैं वैसे-वैसे आप उस माहौल की सभी दिशाएँ देख पाते हैं. आपको बिल्कुल असली जिन्दगी के जैसे अनुभव होने लगता है.

कई 3D गेम्स में भी वर्चुअल रियलिटी का अनुभव किया जा सकता है. उदाहरण के तौर पर अगर एक गेम में गोलियाँ चलानी हैं या लड़ाई करनी है तो उसके लिए तो केवल सिर हिलाना ठीक नहीं रहेगा. इसीलिए ऐसी चीज़ें करने के लिए रिमोट कंट्रोल का इस्तेमाल किया जाता है जिससे एक व्यक्ति अपने हाथों से चीज़ें कंट्रोल कर सकता है.

इसमें इस्तेमाल होने वाले हेडसेट सस्ते या महंगे हो सकते हैं. ये बस आपकी आँखों पर एक चश्मे के जैसे लग जाते हैं.

अगर आप कोई भी ऐसी चीज़ देखना चाहते हैं जो असलियत में देखना संभव नहीं तो वर्चुअल रियलिटी के माध्यम से आप ऐसे अनुभव ले सकते हैं. जैसे कि आप वर्चुअल रियलिटी की मदद से अन्तरिक्ष की यात्रा कर सकते हो. कोई भी जगह घूम सकते हो वो भी बिना वहाँ जाए.

इसी तरह से बच्चों को वर्चुअल रियलिटी खूब पसंद आ रही है क्योंकि इसमें खेली जाने वाली गेम्स बहुत ही मज़ेदार होती हैं. बिल्कुल ऐसा लगता है जैसे हम सच में वो गेम खेल रहे होते हैं. यहाँ तक कि भागने वाली गेम्स के लिए भी अलग तरह की मशीनें आ गई हैं जिस पर जब कोई भागता है तो गेम में वैसी ही दौड़ लगती है. इसी तरह से जब कार को दाएँ-बाएँ घुमाना होता है तो ये दिशाएँ बदलने के लिए भी गियर वाली मशीनें आ गई हैं. पानी के अन्दर का नज़ारा लेना हो तो भी वर्चुअल रियलिटी से लिया जा सकता है.

तो दोस्तो, अब तो आप समझ ही गए होंगे कि वर्चुअल रियलिटी एक ऐसी अनोखी दुनिया है जो असली नहीं है पर जब हम उसमें चले जाते हैं तो बिल्कुल असली लगती है. उम्मीद है कि वर्चुअल रियलिटी के बारे में मैंने जितना भी आपको बताया वो आपको पसंद आया होगा. मेरे नए पोस्टों के बारे में तुरंत सूचना प्राप्त करने के लिए मुझे सब्सक्राइब जरूर करें.

धन्यवाद,
हर्ष

स्रोत: वर्चुअल रियलिटी टाइम्स

कमेंट करें