W3Schools

अपने ब्लॉग/वेबसाइट पर लगाने के लिए मुफ़्त में तस्वीरें कहाँ से लें?

(Last Updated On: July 19, 2017)

Read this post in ENGLISH

नमस्ते दोस्तो, हमें अपने ब्लॉग/वेबसाइट पर कई बार तस्वीरें लगानी पड़ती हैं जिनसे हमारे पोस्ट और भी बढ़िया लगने लगते हैं. पर सवाल ये है कि क्या हम कहीं से भी कोई भी तस्वीर उठा कर अपने ब्लॉग/वेबसाइट पर लगा सकते हैं? तो इसका जवाब है बिल्कुल नहीं. किसी की भी तस्वीर उठा कर लगा लेना बिल्कुल भी सही नहीं है. जो भी तस्वीर हम अपने ब्लॉग/वेबसाइट पर लगाना चाहते हैं वो तस्वीर इस्तेमाल करने के लिए हमारे पास उसका अधिकार होना चाहिए या फिर इन्टरनेट पर कुछ तस्वीरें ऐसी मिलती हैं जो हम मुफ़्त में इस्तेमाल कर सकते हैं. तो चलिए पहले कुछ नीचे लिखी चीज़ें समझ लेते हैं.

कॉपीराइटेड इमेज क्या होती है?

ऐसी तस्वीर जिसे हम मुफ़्त में अपनी वेबसाइट या ब्लॉग पर नहीं डाल सकते और जिसके लिए हमें कुछ रकम अदा करनी पड़ती है या फिर तस्वीर के मालिक से आज्ञा/लाइसेंस लेना पड़ता है, वह तस्वीर कॉपीराइटेड तस्वीर या कॉपीराइटेड इमेज कहलाती है.

रॉयल्टी फ्री इमेज क्या होती है?

ऐसी तस्वीर जिसें हम बिना किसी की आज्ञा के या बिना खरीदे कहीं भी इस्तेमाल कर सकें, उसे रॉयल्टी फ्री तस्वीर या रॉयल्टी फ्री इमेज कहा जाता है.

अपने ब्लॉग/वेबसाइट पर तस्वीर लगाने के लिए जरूरी बात

जो तस्वीर आप लें वो कॉपीराइटेड नहीं होनी चाहिए बल्कि ये तस्वीर रॉयल्टी फ्री होनी चाहिए.

जो नए ब्लॉगर होते हैं उन्हें ये नहीं पता होता कि हम कोई भी गूगल वगैरा से फोटो नहीं उठा सकते. क्योंकि बिना आज्ञा के किसी की तस्वीर इस्तेमाल करने पर आपका अकाउंट बैन भी हो सकता है तो अगर आपको कोई तस्वीर पसंद आ ही गई है जो कॉपीराइटेड है पर आपको पसंद है तो आप उसे खरीद सकते हैं और इस्तेमाल कर सकते हैं. पर अगर आप तस्वीरों पर पैसा नहीं खर्चना चाहते तो आप नीचे के हल पढ़कर रॉयल्टी फ्री तस्वीरें आसानी से प्राप्त कर सकते हैं.

रॉयल्टी फ्री तस्वीरें प्राप्त करने के कुछ बढ़िया स्रोत

1. अपने मोबाइल या कैमरे से फोटो खींचें: अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर फोटो डालने के लिए आप खुद अपने कैमरे या फोन से भी फोटो खींच सकते हैं. इसे आपकी अपनी फोटो कहा जाएगा और इस पर अधिकार भी आपका ही होगा. तो इसलिए आप इसे मुफ़्त में इस्तेमाल कर सकते हैं.

2. Pixabayयह एक ऐसी साईट है जिस पर मुफ़्त में तस्वीरें मिलती हैं और जिनका इस्तेमाल हम अपनी वेबसाइट या ब्लॉग पर मुफ़्त में कर सकते हैं.

3. Google Images: मुफ़्त तस्वीरें प्राप्त करने के लिए गूगल इमेजेज भी देख सकते हैं हालांकि Pixabay ज्यादा बढ़िया है. क्योंकि Google Images में से हम कोई भी तस्वीर ऐसे ही नहीं उठा सकते बल्कि इसके लिए जो तस्वीर हमने खोजनी होती है उसे हम सर्च बार में भर देते हैं जैसे कि नीचे स्क्रीनशॉट में दिखाया ही गया है कि मैंने ‘coffee’ भरा है. काफ़ी की तस्वीरें तो निकल आई हैं लेकिन हम इनमें से कोई भी इस्तेमाल नहीं कर सकते बल्कि इसके लिए पहले ‘More Tools’ पर क्लिक करें और फिर ‘Usage Rights’ पर क्लिक करें और फिर वहां पर आपको केवल दो आप्शनों में से एक आप्शन ही चुनना है.

ये दो आप्शन हैं, ‘Labeled for reuse with modification’ और ‘Labeled for reuse’

Labeled for reuse with modification: इस आप्शन के तहत आने वाली तस्वीरों को आप थोडा बदल कर (ऊपर कुछ लिख कर, रंग बदल कर आदि) भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

Labeled for reuse: इस आप्शन के तहत आने वाली तस्वीरों को आप बदल कर इस्तेमाल नहीं कर सकते बल्कि जैसे तस्वीर हो सिर्फ वैसे ही इस्तेमाल करने की आज्ञा होती है.

तो इस तरह आप इन दोनों में से जिस आप्शन को चुनना चाहें चुन सकते हैं

तो अब से आपको जब कभी भी अपने ब्लॉग/वेबसाइट के लिए तस्वीर चाहिए हो, तो इन ऊपर लिखे तरीकों की मदद जरूर लें. इनमें से मैं Pixabay को ज्यादा इस्तेमाल करती हूँ. इससे हमारी तस्वीरें ढूँढने की परेशानी भी कम हो जाती है और हमारा समय भी बच जाता है.

अगर आप भी कोई ऐसी साईट से मुफ़्त में तस्वीरें उठाते हैं जो कि आपकी पसंदीदा है तो आप नीचे कमेंट सेक्शन में लिखकर जरूर बताइए. उम्मीद है कि ये पोस्ट आपको अच्छा लगा.

सादर,

ब्लॉगरिश

5 कमेंट

  1. arshid March 24, 2018
  2. Jitender Sharma August 16, 2017
  3. Ieinfotech July 26, 2017
  4. yashdeep vitthalani July 5, 2017
  5. Gurjit Singh July 3, 2017

कमेंट करें

Solve : *
22 + 15 =


Free Domain Name
No prize
Next time
1 Year Hosting
Almost
No Prize
Amazon Gift Card
No luck today
Almost!
Secret Fiverr Tip
No prize
Unlucky
Get your chance to win a prize!
Enter your email address and spin the wheel. This is your chance to win amazing prizes!
Our in-house rules:
  • One game per user
  • Cheaters will be disqualified.